भारत परिषद अधिनियम, 1909 | मार्ले-मिन्टो सुधार एक्ट, 1909.

एक टिप्पणी भेजें

नवंबर 1906 में लॉर्ड कर्जन के स्थान पर लॉर्ड मिन्टों को भारत का वायसराय नियुक्त किया गया। भारत सचिव जॉन मालें को नियुक्त किया गया ! मालें-मिन्टो सुधारों के नाम से इस भारत परिषद्‌ अधिनियम, 1909 को जाना जाता है इस एक्ट का उद्देश्य नरम बल को संतुष्ट करना, नरम दल को गरम दल से अलग करना एवं सांविधानिक प्रगति को रोकना था इस अधिनियम द्वारा भारतीयों को प्रशासन तथा विधि निर्माण दोनों कार्यों में प्रतिनिधित्व प्रदान किया गया ! मालें-मिन्टो सुधार को डॉ. महादेव प्रसाद वर्मा ने 'दमन करने और सुविधा देने की दोहरी और मिली-जुली नीति” कहा था इस सुधार द्वारा भारतीयों को कार्यकारिणी परिषदों में नियुक्त किये जाने की व्यवस्था की गयी। भारत सचिव की परिषद में नियुक्त होने वाले दो भारतीय एस.के. गुप्ता एवं सैय्यद हुसैन बिलग्रामी थे मालें-मिंटो सुधार के बाद पहली बार भारतीयों को भारत सचिव की भारत परिषद तथा वायसराय की कार्यकारिणी परिषद में नियुक्त किया गया। वायसराय की कार्यकारिणी परिषद में नियुक्त होने वाले प्रथम भारतीय सत्येंद्र प्रसाद सिन्हा थे 

(नोट: भारत सचिव लॉर्ड मालें ने अपनी परिषद में दो भारतीयों एस.के. गुप्ता और सैय्यद हुसैन बिलग्रामी को नियुक्त किया।) 

1909 भारत सरकार अधिनियम के तहत पहली बार विधायिका में कुछ निर्वाचित प्रतिनिधित्व की मंजूरी दी गयी ! 

सर्वप्रथम निर्वाचित सदस्यों को वर्गीय हितों एवं श्रेणियों के आधारों पर चुने जाने की व्यवस्था की गयी! 

इस अधिनियम द्वारा साम्प्रदायिक प्रतिनिधित्व प्रणाली की शुरुआत मुस्लिम वर्ग के लिए हुई ! भारत परिषद अधिनियम, 1909 के द्वारा मुसलमानों को पृथक मताधिकार ओर पृथक निर्वाचन क्षेत्रों की स्थापना का अधिकार दिया गया। इसी कारण लॉर्ड मिन्टों को साम्प्रदायिक प्रतिनिधित्व का जनक कहा जाता है इस अधिनियम के तहत विधानमंडल या परिषदों के सदस्यों को बजट पर पूरक प्रश्न पूछने तथा पूरक प्रश्न पूछने का अधिकार दिया गया। केएम मुंशी ने इसे "कांग्रेस के उदारवादियों के लिए रिश्वत" कहा (नोट: के.एम. मुंशी ने इस अधिनियम को यह भी कहा था कि 'इन्होंने उभरते हुए प्रजातत्र को मार डाला है।') मार्ले-मिन्टो सुधार को मजूमदार ने “केवल चांद की चांदनी के समान” कहा था तथा रैम्जे मैकडोनाल्ड ने मालें-मिन्टो सुधार को कहा था कि “ये सुधार प्रजातत्रवाद और नौकरशाही को बीच एक अधूरा और अल्पकालीन समझौता हैं मार्ले-मिन्टो सुधार एक्ट 1910 में लागू किया गया था ! 

UPNRHM
UPNRHM.Org में आपका स्वागत है। यहाँ, UPNRHM का अर्थ हिंदी माध्यम में आवश्यकता के लिए उपयोगी व्यक्तिगत समाचार ( Useful Personal News for Requirment in Hindi Medium ) है और हम विभिन्न विषयों पर नवीनतम अपडेट प्रदान करते हैं। हम सभी प्रकार के समाचारों को कवर करते हैं जिनमें शामिल हैं: सामान्य ज्ञान, समाचार, शिक्षा, स्वास्थ्य , टेक, खेल, स्थानीय समाचार और वैश्विक समाचार।

Related Posts

एक टिप्पणी भेजें

SUBSCRIBE OUR UPNRHM